आखिर क्यों भारतीय संसद भवन में लगे हैं उल्टे पंखे? बेहद रोचक है इसके पीछे की वजह।

आजकल हम सभी लोगो के घरों में पखें जरूर लगे होते हैं, लेकिन किसी के घर मे उल्टे पंखे नहीं लगे होंगे। संसद में उल्टे पंखे लगने के पीछे का राज आइये जानते हैं।
कुछ रोचक जानकारी भारतीय संसद भवन के बारे में-: 
 
संसद भवन में भारत की संसदीय कार्यवाही होती है। हमारी राजनीतिक व्यवस्था में जनता सबसे ऊपर है, जनमत सर्वोपरि है। ‘संसदीय’ शब्द का अर्थ ही ऐसी लोकतंत्रात्मक राजनीतिक व्यवस्था है जहाँ सभी लोगों के प्रतिनिधियों के उस निकाय में निहित है जिसको ‘संसद’ कहते हैं। भारत के संविधान के अधीन संघीय विधानमंडल को ‘संसद’ कहा जाता है। यह वह धुरी है, जो देश के शासन की नींव है। भारतीय संसद राष्ट्रपति और दो सदनों—राज्यसभा और लोकसभा—से मिलकर बनती है।
 

आखिर संसद भवन में क्यों लगे हैं उल्टे पंखे?
जब इस बात को लेकर जब पता लगाया गया था कि संसद  में उल्टे पंखे क्यों लगे हैं तो यह पता चला कि शुरुआत से ही यहाँ पर ऐसे ही पंखे लगे थे और भवन की ऐतिहासिकता को बनाए रखने के लिए इसमें आज भी वही उल्टे पंखे लगे हैं, यहाँ तक कि आज भी यहाँ घंटे को बजाकर संसद के सदस्य को बुलाया जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *